Press "Enter" to skip to content

भाजपा में उभरता ओबीसी चेहरा, डॉ. प्रशांत कटरे…100 दिन में गांव की कायापलट करने का वादा

Spread Post

भाजपा में उभरता ओबीसी चेहरा, डॉ. प्रशांत कटरे…100 दिन में गांव की कायापलट करने का वादा

गांव में जैविक खेती के साथ, बिजली, गैस और रोजगार के साधन उपलब्ध कराने का मॉड्यूल पेश कर रहे डॉ. प्रशांत कटरे
गोंदिया टुडे न्यूज़ नेटवर्क।
गोंदिया। ऐसा कोई भी, किसी भी पार्टी का अब तक संभावित उम्मीदवार उतरकर सामने नहीं आया है जो अपने क्षेत्र की जनता को स्वंय के फार्मुले से उभारने का दावा करता हो। हर कोई विकास, रोजगार, स्वास्थ्य, जल, शिक्षा की बात तो करता है पर वह किस आधार पर उसे संकल्पित करेगा यह पैटर्न नहीं बताता। यही कारण है कि जनता भ्रम में आकर या तो अपने मतों का तर्पण करती है या फिर मन मसोसकर किसी को भी अपना मत दे देती है।
पंरतु इस बार एक सख्स ऐसा भी है जो अपने ठोस संकल्पों के साथ चुनावी मैदान की ओर कूच कर रहा है। इस सख्स का नाम है डॉ. प्रशांत कटरे। जो पेशे से होम्योपॅथिक डाक्टर है और भारत सरकार द्वारा पंजीकृत जैविक खेती के माध्यम से गांव की दशा-दिशा, रोजगार की निर्मिती पर कार्य कर रहे है। उनका दावा है कि वे रासायनिक खेती का समूल नाश कर जैविक खेती को बढ़ावा देंगे और 100 दिन में गांव को ऐसा बना देंगे जिसकी मिसाल भारत में होगी।

नए संकल्पों और नई सोच के साथ मैदान में आये डॉ. प्रशांत कटरे भारतीय जनता पार्टी से ताल्लुक रखते है और उसकी विचारधाराओं से प्रेरित है। वे सरकार की योजनाओं को सही मायने में किसानवर्ग के लिए उपर्युक्त मानकर उसे किस प्रकार क्रियान्वित किया जाना चाहिये इस पहल को लेकर गांव-गांव में जनसंपर्क कर रहे है। वे कहते है कि सिर्फ जैविक खेती के माध्यम से गांव में रोजगार की निर्मिती हो सकती है। उनका दावा है कि गांव को 100 दिन में सुजलाम-सुफलाम बनाने का माड्यूल उनके पास है। जिससे गांव में बिजली, गैस, दुग्ध उत्पादन, जैविक खेती और बायो गैस प्लांट का निर्माण कर गांव को विकसित और साधन संपन्न बना सकते है।

52 वर्षीय डॉ. प्रशांत कटरे संपूर्ण विदर्भ में 25 वर्ष से होम्योपॅथिक के एक चर्चित डाक्टर है। उनके पास विदर्भ ही नहीं अपितू मध्यप्रदेश और छत्तीसगड़ से भी लोग इलाज केे लिए आते है। श्री कटरे किसानवर्ग और ओबीसी समाज से होने से वे युवावस्था से ही सामाजिक कार्यो से जुड़े हुए है। डॉ. कटरे राष्ट्रीय संगठन आरोग्य भारतीय के विदर्भ प्रांत उपाध्यक्ष भी है। आरोग्य भारती के माध्यम से आपने अनेकों सामाजिक सकारात्मक कार्यो को अंजाम दिया है। आरोग्य भारती के माध्यम से योग दिवस पर भव्य आयोजन कर अनेकों को योग के माध्यम से रोगमुक्त करने का प्रयास किया है और निरंतर करते आ रहे है।

डाक्टर कटरे कहते है उनका मुख्य उद्देश्य किसानों की खुशहाली, कृषि को मुख्य व्यवसाय बनाना है। आज गोंदिया क्षेत्र जो चावल नगरी के नाम से जाना जाता है वहां का किसान तंगहाली में जीवन बसर कर रहा है। राईस मिलें बंद हो गई। किसानों के बेटे रोजगार की तलाश में शहरों की तरफ रूख कर रहे है। वे कहते है कि किसान के बेटे गांव में रहकर ही रोजगार पा सकते है और रोजगार की निर्मिती भी कर सकते है।

वे अपने संकल्पों को साकार करने के लिए लोगों के बीच जा रहे है और उनसे जनसंपर्क कर रहे है। वे चाहते है कि पार्टी उन्हें एक मौका दे। वे इस मौके को यादगार बनाकर उस सोच के साथ कार्य करना चाहते है जिसकी मिसाल एक पैटर्न के रूप में होगी। डॉ. प्रशांत कटरे का भाजपा आलाकमान से संपर्क बना हुआ है और वे दावेदारी के लिए निरंतर प्रयास कर रहे है। वे एक प्रतिष्ठित समाजसेवी होने से तथा समाज में अच्छी पकड़ बनें होने से उन्हें भरपूर प्रतिसाद मिल रहा है और लोग उनके इस माडयूल पर विश्वास जताकर उनके समर्थन में आगे आ रहे है।
भाजपा ने ऐसे किसान हितैषी सोच वाले, रोजगार की निर्मिती पर संशोधन करने व कृषि को मुख्य व्यवसाय बनाने की सोच वाले व्यक्ति को मौका देना चाहिये ऐसी मांग गोंदिया विधानसभा क्षेत्र से उठ रही है।
जावेद खान

More from GondiaMore posts in Gondia »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × one =