Press "Enter" to skip to content

हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केसः वकीलों का ऐलान- आरोपियों को कोई कानूनी मदद नहीं देंगे

Spread Post

गोंदिया टुडे न्यूज़ नेटवर्क

हैदराबाद। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में सरकारी डॉक्‍टर के साथ गैंगरेप, हत्‍या और जला देने के दिल दहला देने वाले मामले में आरोपियों के लिए मुसीबतें और बढ़ गई हैं। हैदराबाद में वकीलों ने चारों आरोपियों का केस न लड़ने का फैसला किया है। शादनगर बार असोसिएशन ने शनिवार को ऐलान किया है कि डॉक्टर से रेप करने वाले चारों आरोपियों को किसी भी तरह की कानूनी मदद नहीं दी जाएगी।

हाइवे पर मिला था अधजला शव

वहीं, तेलंगाना के राज्यपाल डॉ. तमिलिसई सुंदरराजन ने शनिवार को डॉक्टर के परिजन से मुलाकात की है। जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम भी जल्दी ही पीड़िता के आवास पर पहुंचकर परिजन से मुलाकात करेगी। गौरतलब है कि हैदराबाद-बेंगलुरु हाइवे पर एक सरकारी महिला डॉक्‍टर की अधजली लाश मिली थी।

लाश मिलने के बाद माना जा रहा था कि 27 वर्षीय महिला डॉक्‍टर के साथ रेप के बाद उसकी हत्‍या कर दी गई। हैवानियत की इंतहा यह थी कि आरोपियों ने डॉक्‍टर की लाश को जलाकर एक फ्लाईओवर के नीचे फेंक दिया था। दरअसल, महिला डॉक्‍टर रात में अपने घर लौट रही थीं, इसी दौरान रास्‍ते में उनकी बाइक पंक्चर हो गई थी।

आरोपी अरेस्ट

मामला सामने आने के बाद तेलंगाना पुलिस ने महिला डॉक्‍टर के साथ गैंगरेप, हत्‍या और जला देने के 4 आरोपियों को अरेस्‍ट कर लिया। गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान मोहम्मद आरिफ, नवीन, चिंताकुंता केशावुलु और शिवा के रूप में हुई है।

वहीं, पीड़िता के परिवारवालों ने आरोप लगाया था कि रात में साइबराबाद पुलिस उन्‍हें दौड़ाती रही और किसी तरह की कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस ने तत्‍काल कार्रवाई की होती तो महिला को जिंदा बचाया जा सकता था। पीड़िता की मां ने दोषियों को जिंदा जलाने की मांग की थी।

More from IndiaMore posts in India »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

19 − six =